Swayam me anekon kamiyan hone ke bavjood mai apne aap se itna pyaar kar sakta hun

to fir doosron me thodi bahut kamiyon ko dekhkar unse ghrina kaisi kar sakta hun-

anmol vachan, Swami Vivekanand Ji


Wednesday, 29 July 2015

Milta Hai Sachha Sukh Keval Data Tumhare Charano Me.

     मिलता है सच्चा सुख केवल, दाता तुम्हारे चरणों में ।
     विनती है यह पल-पल क्षण-क्षण, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।।
      चाहे   वैरी  कुल  संसार  बने  , चाहे जीवन मेरा  भार बने ।
       चाहे मौत गले का हार बने  ,  रहे  ध्यान तुम्हारे चरणों में।।
       चाहे काँटों में मुझे चलना हो,  चाहे अग्नि में मुझे जलना हो  ।
      चाहे छोड़ के देश निकलना हो,  रहे ध्यान सदा तेरे चरणों में  ।।
       चाहे  कष्टों ने  मुझे घेरा हो  ,  चाहे   चारों  ओर  अँधेरा  हो  ।
       पर  चित्त न  मेरा डगमग हो ,  रहे  ध्यान  तुम्हारे  चरणों  में  ।।
       मेरी जिह्वा पर तेरा नाम रहे ,   तेरी याद सुबह और  शाम रहे  ।
        यह काम  तो आठों याम रहे , रहे  ध्यान  तुम्हारे  चरणों  में  ।।
        मिलता है सच्चा सुख केवल ,   दाता  तुम्हारे   चरणों  में   ।।
      
      

Saturday, 25 July 2015

Shri Shiv Chalisa ( श्री शिव चालीसा )

              
                              दोहा------
                जै  गणेश  गिरिजा  सुवन , मंगल  मूल  सुजान ।
                कहत  अयोध्यादास  तुम ,  देउ  अभय  वरदान ।।

            
                                       चौपाई-----------
    
                   जय गिरिजापति दीन दयाला । सदा करत सन्तन प्रतिपाला ।।
                   भाल   चन्द्रमा  सोहत  नीके ।  कानन  कुण्डल  नागफनी के ।।
                   अंग  गौर  शिर  गंग   बहाये ।  मुंण्डमाल  तन  छार  लगाये ।।
                   वस्त्र  खाल  बाघम्बर  सोहै  ।  छवि को  देख  नाग  मुनि मोहै ।।
                   मैना  मातु कि हवें  दुलारी  ।  वाम  अंग  सोहत  छवि  न्यारी  ।।
                   कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करें    सदा     शत्रुन   क्षयकारी।।
                   नन्दि  गणेश  सोहैं  तहँ  कैसे। सागर  मध्य  कमल  हैं   जैसे  ।।
                   कार्तिक  श्याम और  गणराऊ। या छवि  को कहि जात न काऊ।।
                   देवन   जबहीं   जाय  पुकारा । तबहीं  दु:ख  प्रभु  आप  निवारा ।।

                   किया  उपद्रव  तारक   भारी ।  देवन  सब  मिलि  तुमहिं  जुहारी ।।
                   तुरत   षडानन   आप  पठायउ। लव  निमेष  महँ  मार  गिरायउ  ।।
                   आप  जलन्धर  असुर   संहारा।  सुयश  तुम्हार  विदित  संसारा  ।।
                   त्रिपुरासुर  सन    युद्ध   मचाई।   तबहिं  कृपा  करि  लीन बचाई ।।
                    किया   तपहिं   भागीरथ  भारी।  पुरेउ   प्रतिज्ञा    तासु   पुरारी ।।
                    दानिन   महँ  तुम  सम कोउ नाहीं।  सेवक  अस्तुति  करत सदाहीं।।
                    वेद   नाम   महिमा    तव   गाई ।  अकथ  अनादि  भेद  नहिं पाई।।
                    प्रगटी  उदधि  मन्थन  में  ज्वाला ।  जरत    सुरासुर   भये  बिहाला।।
                    कीन्ह   दया   तहँ   करी  सहाई  ।  नीलकण्ठ   तव   नाम  कहाई ।।
                    पूजन   रामचन्द्र    जब   कीन्हा  । जीत  के  लंक   विभीषण दीन्हा।।
                     सहस कमल  में   हो  रहे  धारी । कीन्ह   परीक्षा   तबहिं   पुरारी ।।
                     एक   कमल  प्रभु  राखेउ  गोई  । कमल  नयन   पूजन   चहँ  सोई।।
                      कठिन  भक्ति  देखी  प्रभु शंकर । भये  प्रसन्न   दिये   इच्छित  वर ।।
                      जय  जय  जय  अनन्त अविनाशी । करत कृपा  सब  के  घटवासी ।।
                      दुष्ट  सकल  नित   मोहिं  सतावै ।  भ्रमत  रहे  मोहिं  चैन  न  आवै ।।
                       त्राहि  त्राहि   मैं  नाथ  पुकारों  ।  यहि  अवसर  मोहिं  आन  उबारो ।।
                       लै   त्रिशूल   शत्रुन  को  मारो ।  संकट   से   मोहिं   आन  उबारो ।।
                       मातु   पिता   भ्राता  सब   होई । संकट   में    पूछत   नहिं   कोई  ।।
                       स्वामी   एक  है   आस  तुम्हारी। आय  हरहु   अब   संकट   भारी ।।
                       धन   निर्धन   को  देत  सदाहीं ।  जो  कोई   जाँचे   सो  फल  पाहीं ।।
                      अस्तुति  केहि  विधि  करौं  तुम्हारी।  क्षमहु  नाथ   सब  चूक  हमारी ।।
                       शंकर    हो    संकट    के   नाशन ।  विघ्न  विनाशन  मंगल   कारन ।।
                       योगी   यती   मुनि  ध्यान   लगावैं  ।  शारद   नारद   शीश   नवावैं   ।।
                       नमो   नमो   जय   नमो   शिवाय  ।  सुर   ब्रह्मादिक   पार  न  पाये  ।।
                       जो  यह  पाठ   करे   मन   लाई   ।  ता   पर  होत  हैं  शम्भु  सहाई  ।।
                       रृनियां  जो  कोई   हो   अधिकारी।  पाठ   करे   सो     पावनहारी  ।।
                      पुत्र     होन    कर      इच्छा   कोई । निश्चय  शिव  प्रसाद  तेहि  होई।।
                      पण्डित   त्रयोदशी     को     लावै  ।  ध्यान    पूर्वक    होम     करावै ।।
                      त्रयोदशी     व्रत      करै    हमेशा  ।  तन   नहिं   ताके   रहे  कलेशा  ।।
                      धूप      दीप      नैवेद्य      चढ़ावै  ।  शंकर    सम्मुख    पाठ   सुनावै ।।
                     जन्म    जन्म    के     पाप   नशावै।  अंत    धाम   शिवपुर   में   पावै ।।
                    कहैं       अयोध्यादास      तुम्हारी  ।  जानि  सकल  दु:ख  हरहु  हमारी।।

                                                             दोहा--------

                   नित्य   नेम    करि     प्रातहीं ,   पाठ     करें     चालीस    ।
                    तुम       मेरी    मनोकामना ,     पूर्ण     करो    जगदीश  ।।
                    मगसर   छठि   हेमन्त    रृतु ,   संवत    चौंसठ    आन   ।
                   अस्तुति     चालीसा   शिवहिं ,  पूर्ण      कीन    कल्याण ।।

              

Wednesday, 22 July 2015

Shri Shivashatak ( श्री शिवाष्टक )



आदि    अनादि    अनन्त , अखण्ड  अभेद   सुवेद    बतावैं ।
   अलख  अगोचर  रूप  महेश कौ,  जोगी जती-मुनि ध्यान न पावैं।।
   आगम-    निगम-   पुरान    सबैं , इतिहास सदा जिनके गुन गावैं ।
    बड़भागी नर  - नारी  सोई  , जो सांब- सदाशिव  कौं  नित ध्यावैं।।  

    सृजन , सुपालन  लय लीलाहित, जो  विधि-हरि   हररूप  बनावैं ।
    एकहि    आप    विचित्र   अनेक, सुवेष  बनाइकें  लीला  रचावैं ।।
   सुन्दर    सृष्टि  सुपालन   करि , जग पुनि बन काल जु खाय पचावैं।
   बड़भागी  नर- नारी  सोई  जो ,  सांब -सदाशिव  कौं  नित  ध्यावैं ।।

      अगुन   अनीह   अनामय  अज , अविकार सहज  निज  रूप धरावैं ।
      परम   सुरम्य  बसन- आभूषण , सजि  मुनि-मोहन  रूप   करावैं  ।।
      ललित     ललाट   बाल  बिधु ,  विलसै , रतन-हार  उर  पै लहरावैं ।
      बड़भागी     नर-नारी  सोई  जो , सांब -सदाशिव  कौं  नित  ध्यावैं ।।

      अंग  विभूति  रमाय  मसान  की ,  विषमय  भुजंगमनि  को  लपटावैं ।
      नर-कपाल  कर  मुण्डमाल  गल,   भालु -चर्म   सब   अंग    उढ़ावैं  ।।
      घोर     दिगम्बर ,   लोचन   तीन , भयानक  देखि  कैं   सब   थर्रावैं ।
      बड़भागी     नर -नारी    सोई  जो,  सांब -सदाशिव    कौं   नित  ध्यावैं।।

       सुनतहि   दीन   की   दीन   पुकार ,  दयानिधि  आप    उबारन    आवैं  ।
        पहुँच   तहाँ    अविलम्ब   सुदारुन ,  मृत्यु   को   मर्म   बिदारि  भगावैं  ।।
        मुनि   मृकंडु- सुत   की    गाथा  सुचि,  अजहु   विज्ञजन  गाइ   सुनावैं ।
       बड़भागी    नर-नारी     सोई      जो    ,  साँब    सदाशिव   कौं  नित ध्यावैं ।।

         चाउर  चारि  जो  फूल  धतूर   के  , बेल  के  पात ,  और  पानी  चढ़ावैं ।
         गाल    बजाय  कैं    बोल  जो  , ' हरहर महादेव '  धुनि  जोर  लगावैं ।।
        तिनहिं   महाफल   देय  सदाशिव,   सहजहि    भुक्ति - मुक्ति  सो  पावैं   ।
         बड़भागी   नर - नारी   सोई   जो ,  सांब - सदाशिव   कौं  नित  ध्यावैं  ।।

        बिनसि    दोष    दु:ख   दुरित  दैन्य,  दारिद्रयं   नित्य  सुख - शांति  मिलावैं।
        आशुतोष   हर    पाप - ताप   सब ,    निर्मल     बुद्धि - चित     बकसावैं  ।।
        असरन - सरन     काटि     भवबन्धन ,   भव   जिन    भवन   भव्य   बुलवावैं ।
        बड़भागी      नर - नारी   सोई   जो  ,  सांब - सदाशिव   कौं   नित  ध्यावैं  ।।

         ओढरदानी ,    उदार     अपार     जु ,   नैक - सी    सेवा  तें    ढुरि    जावैं ।
         दमन     अशांति  ,    समन   संकट ,  बिरद   विचार     जनहिं      अपनावैं ।।
         ऐसे    कृपालु     कृपामय    देव   के ,  क्यों   न   सरन    अबहीं  चलि  जावैं ।
         बड़भागी    नर - नारी     सोई      जो ,   सांब - सदाशिव     कौं   नित   ध्यावैं।।

   
  
    
    

Monday, 20 July 2015

Dwadash Jyotirlings (शिवजी के बारह ज्योतिर्लिंग )

     सौराष्ट्रे  सोमनाथं  च   श्रीशैले  मल्लिकार्जुनम् ।
        उज्जयिन्यां        महाकालमोंकारममलेश्वरम् ।।
       परल्यां   वैद्यनाथं  च  डाकिन्यां   भीमशंकरम् ।
       सेतुबन्धे   तु     रामेशं   नागेशं   दारुकावने   ।।
       वाराणस्यां   तु   विश्वेशं  त्र्यम्बकं   गौतमी तटे ।
       हिमालये   तु   केदारं   घुश्मेशं  च   शिवालये ।।
       एतानि   ज्योतिर्लिंगानि  सायं  प्रात:   पठेन्नर:  ।
       सप्तजन्मकृतं     पापं     स्मरणेन     विनश्यति  ।।

           ( १)   श्री  सोमनाथ मंदिर --गुजरात के सौराष्ट्र प्रदेश  ( काठियावाड़ ) में  विराजमान  हैं।

             (२)  श्री  मल्लिकार्जुन मंदिर-श्री  शैल  पर्वत पर , जिसे दक्षिन का कैलाश कहते हैं।यह आन्ध्रप्रदेश में हैं।

              (३)  श्री  महाकालेश्वर मंदिर--- श्री महाकालेश्वर मंदिर क्षिप्रा नदी के तट पर उज्जैन नगर में विराजमान हैं।

              (४ ) ओंकारेश्वर  तथा अमलेश्वर मंदिर--- यह  ज्योतिलिंग भी उज्जैन में ही विराजमान  हैं। ओंकारेश्वर तथा अमलेश्वर  एक ही लिंग के दो पृथक पृथक लिंग स्वरूप हैं।

               ( ५)  वैद्यनाथ मंदिर -------इस मंदिर के बारे मे लोगों के मत भिन्न भिन्न हैं। कुछ लोग हैदराबाद के परलीग्राम में श्री वैद्यनाथ   नामक  ज्योतिर्लिंग को बताते हैं। वहीं कुछ लोगों का कहना है, कि जसीडीह स्टेशन (जो अब झारखंड के अन्तर्गत है ) के पास श्री वैद्यनाथ मंदिर ही वास्तविक ज्योतिर्लिंग हैं।

                   ( ६ ) श्री भीमशंकर मंदिर------  यह मंदिर  नासिक से लगभग १२० मील दूर महाराष्ट्र में बिराजमान हैं।

                     ( ७ ) सेतुबन्ध पर  श्री रामेश्वर मंदिर----यह मंदिर तमिलनाडु में हैं।

                      ( ८ )श्री नागेश्वर मंदिर-------दारुकावन में  श्री नागेश्वर मंदिर हैं। नागेश्वर मंदिर के बारे में भी लोगों के मत अलग-अलग है।कुछ लोग द्वारिका के नागेश्वर मंदिर को बताते हैं तो कुछ का कहना है कि महाराष्ट्र में जागेश्वर मंदिर हैं वहीं नागेश्वर ज्योतिलिंग मंदिर हैं।

                        ( ९ ) श्री विश्वनाथ मंदिर------वाराणसी ( काशी ) में श्री विश्वनाथ मंदिर हैं।

                       ( १० ) श्री त्रयम्बकेश्वर मंदिर-----नासिक में पंचवटी से १८ मील की दूरी पर ब्रह्मगिरि के निकट गोदावरी के किनारे महाराष्ट्र में हैं।

                      (   ११ ) केदारनाथ मंदिर------ हिमालय पर केदार नामक श्रृंग पर स्थित हैं श्री केदारनाथ मंदिर जो उत्तराखंड में हैं।

                         ( १२ ) श्री घुश्मेश्वर मंदिर--- श्री घुश्मेश्वर को घुसृणेश्वर मंदिर भी कहा जाता है। यह शिवालय में स्थित है। यह ज्योतिलिंग मंदिर औरंगाबाद , महाराष्ट्र मेंहैं।

                           जो मनुष्य प्रतिदिन प्रात:काल और संन्ध्या के समय इन बारह ज्योतिर्लिंगों का नाम लेता है, उसके सात जन्मों का किया हुआ पाप इन लिंगों के स्मरण मात्र से मिट जाता है।

Saturday, 18 July 2015

Dasha Mugh Deen Ki Bhagwan Samhaloge To Kya Hoga.(दशा मुझ दीन की भगवनसम्भालोगे तो क्या होगा ।)

दशा मुझ दीन की भगवन सम्हालोगे तो क्या होगा ।
अगर मैं  पापी हूँ  तो पापहर तुम हो, ये लज्जा दोनो नामों की,
मिटा दोगे तो क्या होगा।
दशा मुझ दीऩ की।  .........................

यहाँ सब मुझको कहते हैं तू मेंरा है तू मेंरा है,
मैं किसका हूॉ ये झगड़ा तुम मिटा दोगे तो क्या होगा
दशा मुझ दीनं।    .......................,,.....

अजामिल गिद्ध गणिका सभी, जिस दया गंगा में तरते थे,
उसी में बिंदू सा पापी, मिला लोगे तो क्या होगा।
दशा मुझ दीन की ......................... 

Friday, 17 July 2015

Mukh Se Jap Le Om Namah Sivaya( मुख से जप ले ओम नम:शिवाय)

        

          पल पल जीवन बीता जाय 
         मुख से जप ले ओम नम:शिवाय।
 
         शिव शिवा नाम हृदय से बोलो 
           मन   मंदिर   का  परदा  खोलो   ।
          तेरी  उमरिया निष्फल  जाय ।। मुख से ।।

         ये  दुनिया  माया  का  मेला
        जीव  यहाँ  से  जाय  अकेला ।
        सगे सम्बन्धी सब यही रह जाय।। मुख से ।।

         मुसाफिरी  जब  पूरी  होगी
         चलने की बस मजबूरी होगी ।
         तेरा तन मन धन सब छूटो जाय।। मुख से ।।

           शिव  पूजन में  मस्त बने जा
           भक्ति सुधारस पान किये जा।
            शिव  दिव्य  ज्योति दर्शाय।। मुख से ।।
            पल पल जीवन बीता जाय
             मुख से जप ले ओम नम: शिवाय।

Tuesday, 14 July 2015

SankatMochan Hanumanashtak (संकटमोचन हनुमानाष्टक )को नहिं जानत है जग में कपि,संकटमोचन नाम तिहारो।

         बाल  समय  रबि  भक्षि  लियो  तब
         तीनहुँ   लोक    भयो    अँधियारो   ।
        ताहि    सों   त्रास  भयो  जग  को
        यह संकट काहु  सों जात न  टारो  ।।
         देवन आनि  करी   बिनती  तब
       छाँड़ि   दियो  रबि  कष्ट  निवारो   ।
      को   नहिं  जानत  है  जग  में  कपि
        संकटमोचन     नाम      तिहारो   ।। को० ।।

       बालि  की  त्रास  कपीस  बसै  गिरि
         जात     महाप्रभु   पंथ    निहारो    ।
       चौंकि  महा  मुनि  साप  दियो   तब
      चाहिय    कौन    बिचार     बिचारो  ।।
      कै  द्विज  रूप    लिवाय    महाप्रभु 
     सो  तुम   दास  के   सोक   निवारो ।।को० ।।

           अंगद के सँग लेन गये सिय 
         खोज कपीस यह बैन उचारो ।
          जीवत ना  बचिहौ   हम सो  जु 
         बिना  सुधि लाए इहाँ पगु  धारो  ।।
        हेरि  थके  तट  सिंधु  सबै  तब लाय
         सिया - सुधि      प्रान      उबारो     ।। को० ।।

        रावन    त्रास  दई    सिय   को   सब 
        राक्षसि    सों   कहि    सोक   निवारो  ।
         ताहि      समय     हनुमान      महाप्रभु 
         जाय      महा       रजनीचर      मारो    ।।
         चाहत     सीय     असोक   सों  आगि  सु
        दै     प्रभु      मुद्रिका    सोक    निवारो   ।। को० ।।

       बान    लग्यो     उर    लछिमन   के    तब
       प्रान     तजे      सुत     रावन       मारो   ।
       लै      गृह      बैद्य      सुषेन     समेत
        तबै     गिरि    द्रोन   सु     बीर      उपारो  ।।
       आनि     सजीवन      हाथ      दई     तब 
       लछिमन     के      तुम       प्रान     उबारो ।। को० ।।

        रावन     जुद्ध    अजान    कियो    तब
        नाग   कि   फाँस      सबै     सिर डारो ।
          श्रीरघुनाथ      समेत      सबै      दल
         मोह     भयो     यह      संकट     भारो ।।
        आनि     खगेस     तबै       हनुमान   जु
         बंधन     काटि        सुत्रास      निवारो  ।। को० ।।

        बंधु    समेत     जबै      अहिरावन 
        लै      रघुनाथ     पताल     सिधारो।
        देबिहिं      पूजि   भली   बिधि  सों   बलि
         देउ     सबै      मिलि     मंत्र       बिचारो  ।।
            जाय     सहाय    भयो     तब       ही 
            अहिरावन     सैन्य    समेत       सँहारो  ।। को० ।।

               काज    किये     बड़    देवन    के    तुम
               बीर      महाप्रभु        देखि       बिचारो ।
                कौन    सो     संकट     मोर     गरीब  को
                जो      तुमसों     नहिं      जात   है    टारो ।।
                 बेगि         हरो       हनुमान        महाप्रभु 
                 जो       कछु      संकट       होय     हमारो ।। को० ।।
                  
                      दोहा---- लाल   देह   लाली   लसै ,  अरु   धरि  लाल   लँगूर   ।
                                   बज्र   देह    दानव   दलन,   जय  जय  जय  कपि  सूर ।।

                       सो०----  प्रनवउँ  पवनकुमार  खल  बन  पावक  ग्यानघन ।
                                  जासु   हृदय   आगार   बसहिं   राम  सर  चाप  घर ।।

                                                ।। इति  संकटमोचन  हनुमानाष्टक  सम्पूर्ण  ।।