Swayam me anekon kamiyan hone ke bavjood mai apne aap se itna pyaar kar sakta hun

to fir doosron me thodi bahut kamiyon ko dekhkar unse ghrina kaisi kar sakta hun-

anmol vachan, Swami Vivekanand Ji


Tuesday, 3 March 2015

इतना तो करना स्वामी , जब प्राण तन से निकले।


 
       इतना तो करना स्वामी, जब प्राण तन से निकले।
     
       गोविन्द नाम लेकर, राधे का नाम लेकर,
        जब प्राण तन से निकले, हर हर कंठ बोले।
          जब प्राण तन से निकले,इतना तो करना स्वामी,
               जब प्राण तन निकले। ।

                          गंगा जी का तट हो, यमुना का बंशीबट हो।
                              मेंरा साँवला निकट हो, जब प्राण तन से निकले।
                              इतना तो करना स्वामी, जब प्राण तन निकले।

                 मेंरा साँवला  खंड़ा हो, मुरली में स्वर भरा हो।
                   तिरछी चरण धरा हो, जब प्राण तन से निकले।
                     इतना तो करना स्वामी, जब प्राण तन से निकले।

                                 बृंदावन का स्थल हो, मेंरे मुख में तुलसी दल हो।
                                   विष्णु चरण का जल हो, जब प्राण तन से निकले।
                                    इतना तो करना स्वामी, जब प्राण तन से निकले।

                        उस वक़्त जल्दी आना, नहीं श्याम भूल जाना ।
                         राधे को साथ लाना, जब प्राण तन से निकले।
                         इतना तो करना स्वामी, जब प्राण तन से निकले।

Monday, 2 March 2015

पांडवों के प्रति श्रीकृष्ण का स्नेह।





       कुरुक्षेत्र  के युद्ध में , दुर्योधन  अपनी सेना को कमज़ोर पड़ता देख ,भीष्म पितामह के पास गया

       और पितामह को पांडवों पर पक्षपात का आरोप लगाया ।दुर्योधन ने पितामह से काफ़ी कड़े शब्दों

        में कहा कि आप पांडवों को मारना नहीं चाहते हैं क्योंकि वे आपके प्रिय हैं। पितामह को दुर्योधन

      के  कटु वचन तथा अपनें उपर लगा लांछन सुनकर अच्छा नहीं लगा और उन्होंने प्रण ले लिया कि

     अगले दिन युद्ध में पाँचो पांडवों का वध कर देगें । यह समाचार सुनकर पांडव घबरा गये ,और श्री कृष्ण

       के पास  समाधान के लिये गये।

                      श्री कृष्ण द्रौपदी को साथ लेकर अर्ध रात्रि के समय भीष्म पितामह के पास गये । कृष्ण  ने

                      द्रौपदी से कहा, अपने पाँव की जूती यहीं उतार कर अंदर जाओ और पितामह के चरणों में

                      झुक कर सौभाग्यवती होने काआशीर्वाद ,वचन में माँग लो जिससे पितामह पांडव वध का प्रण

                      त्याग दें। श्री कृष्ण की इच्छानुसार द्रौपदी पितामह के कक्ष में गयी । पितामह उस समय प्रभु चरणों

                      में ध्यान लगाये समाधि में बैठे थे।द्रोपदी ने जाकर पितामह के चरण पकड़ लिये तथा आशीर्वाद माँगा।

                     पितामह को लगा दुर्योधन की पत्नी आशीर्वाद लेने आयी है, युद्ध में कौरवों की दशा ठीक नहीं है इसलिये

                      घबराकर मेंरे पास आई है।पितामह ने सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद दिया।द्राैपदी ने चरण नहीं छोड़े।

                     पितामह ने पुनह सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद दिया। इस तरह द्रौपदी ने पितामह के चरण तब तक नहीं

                     छोड़े जब तक पितामह ने पाँच बार सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद उन्हें नहीं दे दिया।


                     द्रौपदी ने आशीर्वाद सुनकर कहा , बाबा आप सत्य वक़्ता तथा धर्म निष्ठ हैं ,आपने मुझे सौभाग्यवती होनें        

                     का आशीर्वाद  दिया है , परन्तु कल युद्ध में मेरे एक भी पति की मृत्यु हुइ तो आपका आशीर्वाद सफल

                      सिद्ध नहीं होगा।


                     द्रौपदी के ऐसे वचन सुनकर पितामह को होश आया। उनकी समाधि भंग हो गयी, हाथ से पूजा की माला  

                छूट  गयी। पितामह समझ गये कि सामने द्रौपदी है तथा उसे लाने वाला कोई और नहीं मेंरे प्रण का

                         रखवाला श्रीकृष्ण हैं। श्रीकृष्ण  के सिवा ऐसी युक्ति तथा चतुराई कोई और नहीं कर सकता । पितामह

                          ने कहा , बेटी तुम्हें लाने वाला वो छलिया कहाँ है? उम्र में पुत्र तथा पौत्रों वाला हो गया है,फिर भी चोरी

                           की आदत नहीं गयी है। युद्ध में वो माखन चोर नित नई नीतियाँ बनाता है। द्रौपदी से पितामह ने कहा ,

                            बेटी तुमने हमारे कुल का यश बढ़ाया है यह कहकर वो श्रीकृष्ण से मिलने बाहर की तरफ़ दौड़े ।

                              बाहर  आकर देखा तो वहाँ का दृश्य बड़.ही निराला था,  श्रीकृष्ण अपने पीताम्बर से घुंघट ओढ़े,

                        तथा बग़ल में द्रोपदी के पाँव की जूती दबाये खड़े थे।पितामह को देखकर मंद मंद मुस्कुरा रहे थे।

                    पितामह  ने द्रौपदी से कहा , बेटी तुम्हारे पतियों का शत्रु युद्ध में बाल भी बाँका नहीं कर सकेगा क्योंकि

                      तुम्हारे साथ विश्व रचाने वाला स्वयं युद्ध में सारथी बनकर मार्गदर्शन कर रहा है ,इसलिये मेंरा भी आशीर्वाद तुम्हारे साथ है।

                         साथ है।

 

                     का 

Saturday, 21 February 2015

Shri Durga Chalisa .


 
     Namo Namo Durge Sukhkarni , Namo Namo Ambe Dukhharni.
 
    Nirankar hai Jyoti tumhari, Tihun Lok Faili ujiari .
 
       Shashi lalaat mukh maha vishala ,Netra Lal  bhrikuti  vikarala

       Roop Mat ko Adhik suhave , Daras karat jan ati sukh pave  .

      Tum  Sansar Shakti  lau kina,  Palan hetu Ann dhan  dina .

      Annapurna  hui jag pala , Tumhi  Aadi Sundari  Bala  .

       pralaykal  Sab  Nashan Hari , Tum  Gauri  Shiv Shankar pyari

       Shiv yogi tumhre Yash gave ,  Brahma Vishnu tumhe nit dhyave .

       Roop Saraswati ko Tum Dhara , De Subuddhi Rishi Munin ubara .

        Dharo Roop Narsingh ko Amba , Pragat  bhaye faar Kar Khamba  .

       Raksha Kar Prahlad bachayo.  Hiranyaksh ko swarg pathayo .

        Lakshmi Roop dharo jag Mahi , Shri Narayan ang samahi  .

      Ksheer Sindhu men karat Vilasa ,  Dayasindhu dijay man asha .

      Hinglaj men Tumhi Bhawani , Mahima Amit n Jaat  bakhani. .

      Matangi   Ghumavati  Mata. ,  Bhuvaneshwari Bagla sukhdata  .

     Shri Bhairav Tara Jag Tarini ,   kshinnbhal bhav Dukh Nivarini  .

       Kehrivahan soyi Bhawani ,  Langar veer chalat  agwani  .

        Kar men khappar Kharag viraaje ,  Jako Dekh kaal Dar bhaje  .

        Sohai Astra aurTrishula ,    Jate uthat Shatru hiya Shula. .

        Nagar koti  men tuhi Virajat ,  Tihun Lok  men danka Bajat.

         Shumbh Nishumbh danav Tum mare ,  Rakt beej shankhan sanghare .

        Mahisasur Nrip ati abhimani ,  jehi agh Bhar Mahi akulani. .

         Roop Karal  Kali ko Dhara ,  Sen Sahit Tum tihi sanghare. .

          Pari Garh santan par jab jab , Bhayi Sahai  Matu Tum tab tab .

         Amar puri auro Sab Loka ,  Tav Mahima Sab rahe Ashoka. .

          Bala men hai Jyoti tumhari ,  Tumhe sada Pooje  Nar Nari .

            Prem Bhakti se Jo jas gave , Dukhh  daridra nikat nahi aave . 

             Dhyave tumhe Jo Nar man layi , Janm maran takao chuti. Jayee .

           Jogi sur Muni kahat pukari , yog Na ho bin Shakti tumhari  .

           Shankar aacharaj Tap kino ,  Kamroo krodh Jeet Sab Lino .
     
           Nishidin dhyan dharo Sankar ko , Kahu kal nahi Sumirau tumko .
  
             Shakti Roop ko maram n payo ,Shakti gayer Tav man pachhtayo .

              Sharanagat huyee Kirti bakhani ,  Jai Jai Jai Jagdambe Bhawani .

              Bhayee Prasann Aadi Jagdamba ,  Dayee Shakti nahi kinn vilamba .

              Mo ko Mat Kasht ati ghero.  Tum vin kaun hare Dukhh mero.

              Asha Trishna nipat satavai ,   Ripu murakh Mohi ati Dar pavai

               Shatru Nash kejay Maharani ,  Sumiraun ikchit tumhe Bhawani .

               Karau Kripa he Matu dayala ,    Riddhi Sidhhi de Karhu Nihala .

                Jab lagi jiyaun Daya phal paun , Tumharau  Jas Mai sada Sunaun .

                 Durga Chalisa Jo koi gave ,Sab sukh bhog param pad pave .

                  Devi Das sharan nij jani ,   Karhun Kripa Jagdamb Bhawani .
           

            

              
                
        

Wednesday, 18 February 2015

प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो ( राम जी का भजन । )


       प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो ....२
       समदर्शी है नाम तुम्हारो , नाम की लाज धरो।
       प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो ..............

      एक नदियाँ एक नार, कहावत, मैंलो नीर भरो ।
      दोनों मिल जब एक वरण भइ ,
      सुरसरी नाम पड़ो ।
      प्रभु जी मेंरो .................................

      एक लोहा पूजा में राखत, एक घर बधिक पड़ो।
      यह दुविधा पारस नहीं जानत, 
      कंचन करत खरो ।
      प्रभु जी मेंरो अवगुण.........................

       यह माया भ्रम जाल कहावत, सूरदास सगरो ।
       अबकी बार मोहे पार उतारो,
       नहीं प्रण जात टरो ।
       
       प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो।
       समदर्शी है नाम तुम्हारो, नाम की लाज धरो ।
       प्रभु जी मेंरो............................



             
               


Sunday, 15 February 2015

गीता श्लोक

      हे कृष्ण  करूणासिंधो दीनबंधो जगत्पते। ।
      गोपेश गोपिकाकाकान्त राधाकान्त नमोस्तुते ।।

  (  हे कृष्ण ! आप दुखियों के सखा तथा सृष्टि के उदगम हैं। आप गोपियों के  स्वामी तथा राधारानी के प्रेमी हैं। मैं आपको सादर प्रणाम करता हूँ  ।)


        तप्तकांचन गौरांगि राधे वृन्दावनेश्वरी ।
         वृषभानु सुते देवि प्रणमामि हरि प्रिये ।।


(मैं उन राधा रानी को प्रणाम करता हूँ जिनकी शारीरिक कांति पिघले सोने के सदृश है,

जो वृन्दावन की महारानी हैं। राजा वृषभानु की पुत्री हैं और भगवान कृष्ण को अत्यन्त प्रिय हैं।)
 

        श्री कृष्ण - चैतन्य प्रभू-नित्यानंद ।
       श्री अद्वैत गदाधर श्री वासादि गौर भक्तवृन्द ।।

   ( श्री कृष्ण चैतन्य, प्रभु नित्यानंद , श्री अद्वैत गदाधर , श्रीवास आदि समस्त
     भक्तों को सादर प्रणाम करता हूँ । )
 
       वान्छा कल्पतरूभ्यश्च कृपासिन्धुभ्य एव च  ।
        पतितानां पावनेभ्यो वैष्णवेभ्यो नमो नम: ।।

     ( मैं भगवान के समस्त वैष्णव भक्तों को सादर नमस्कार करता हूँ ।
        वे कल्पवृक्ष के समान सबों की इच्छाएँ पूर्ण करने में समर्थ हैं, तथा
         पतित जीवात्माओं के प्रति अत्यंत दयालु हैं। )
   

       हरे कृष्ण  हरे कृष्ण  कृष्ण कृष्ण हरे हरे ।
       हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे ।।


               

राय श्री रनछोड़ दीजो द्वारिका को बास (मीरा जी के पद )

                               
    
                              राय श्री रनछोड़ दीजो द्वारिका को बास ।

                             संख। चक्र  गदा। पद्म  दरसें  मिटे  जम। को त्रास ।।

                           सकल। तीरथ। गोमती। के। रहत। नित। निवास  ।

                            संख। झालर झाँझ  बाजै। सदा  सुष। की। रास  ।।

                            तजियो।  देसरू बेसह  तजि तजियो राना राज। 

                            दास  मीरा सरन आबे  तुम्हें  अब सब लाज। ।

Saturday, 14 February 2015

मीरा हरि की लाड्ली ( मीरा बाइ जी के पद )

          मीरा हरि की लाड़ली, भगत मिली भरपूर ।
           सांधा सूँ सनमुष रही, पापी सूं अति दूर ।।

          राना विष ताकौं दियो, पियो लै हरि नाम।
           रातों कीनो भगत मुष, राखो नहिं भव काम ।।

            जेठ कह्यो , देवर कह्यो, सास ननद समझाय।
             मीरा महलन तज दियो , गोविन्द को गुन गाय ।।

            पुष्कर नहाइ मगन मन, वृंदावन रसषेत।
           गई द्वारिका  अंत में, श्री रनछोर निकेत ।।

             मेड्तनी के मन रही, एकै गिरिधर रेह ।
              रोम रोम में रमि रह्यो, ज्यों  बदरि जल मेह ।।

              कान्हा चरणन में पड़ी,  और न मोय सुहाय ।
               कुँवरी दासी कृष्ण री,  दर्शन दीजो आय ।।