Swayam me anekon kamiyan hone ke bavjood mai apne aap se itna pyaar kar sakta hun

to fir doosron me thodi bahut kamiyon ko dekhkar unse ghrina kaisi kar sakta hun-

anmol vachan, Swami Vivekanand Ji


Wednesday, 22 July 2015

Shri Shivashatak ( शिवाष्टक )



आदि    अनादि    अनन्त , अखण्ड  अभेद   सुवेद    बतावैं ।
   अलख  अगोचर  रूप  महेश कौ,  जोगी जती-मुनि ध्यान न पावैं।।
   आगम-    निगम-   पुरान    सबैं , इतिहास सदा जिनके गुन गावैं ।
    बड़भागी नर  - नारी  सोई  , जो सांब- सदाशिव  कौं  नित ध्यावैं।।  

    सृजन , सुपालन  लय लीलाहित, जो  विधि-हरि   हररूप  बनावैं ।
    एकहि    आप    विचित्र   अनेक, सुवेष  बनाइकें  लीला  रचावैं ।।
   सुन्दर    सृष्टि  सुपालन   करि , जग पुनि बन काल जु खाय पचावैं।
   बड़भागी  नर- नारी  सोई  जो ,  सांब -सदाशिव  कौं  नित  ध्यावैं ।।

      अगुन   अनीह   अनामय  अज , अविकार सहज  निज  रूप धरावैं ।
      परम   सुरम्य  बसन- आभूषण , सजि  मुनि-मोहन  रूप   करावैं  ।।
      ललित     ललाट   बाल  बिधु ,  विलसै , रतन-हार  उर  पै लहरावैं ।
      बड़भागी     नर-नारी  सोई  जो , सांब -सदाशिव  कौं  नित  ध्यावैं ।।

      अंग  विभूति  रमाय  मसान  की ,  विषमय  भुजंगमनि  को  लपटावैं ।
      नर-कपाल  कर  मुण्डमाल  गल,   भालु -चर्म   सब   अंग    उढ़ावैं  ।।
      घोर     दिगम्बर ,   लोचन   तीन , भयानक  देखि  कैं   सब   थर्रावैं ।
      बड़भागी     नर -नारी    सोई  जो,  सांब -सदाशिव    कौं   नित  ध्यावैं।।

       सुनतहि   दीन   की   दीन   पुकार ,  दयानिधि  आप    उबारन    आवैं  ।
        पहुँच   तहाँ    अविलम्ब   सुदारुन ,  मृत्यु   को   मर्म   बिदारि  भगावैं  ।।
        मुनि   मृकंडु- सुत   की    गाथा  सुचि,  अजहु   विज्ञजन  गाइ   सुनावैं ।
       बड़भागी    नर-नारी     सोई      जो    ,  साँब    सदाशिव   कौं  नित ध्यावैं ।।

         चाउर  चारि  जो  फूल  धतूर   के  , बेल  के  पात ,  और  पानी  चढ़ावैं ।
         गाल    बजाय  कैं    बोल  जो  , ' हरहर महादेव '  धुनि  जोर  लगावैं ।।
        तिनहिं   महाफल   देय  सदाशिव,   सहजहि    भुक्ति - मुक्ति  सो  पावैं   ।
         बड़भागी   नर - नारी   सोई   जो ,  सांब - सदाशिव   कौं  नित  ध्यावैं  ।।

        बिनसि    दोष    दु:ख   दुरित  दैन्य,  दारिद्रयं   नित्य  सुख - शांति  मिलावैं।
        आशुतोष   हर    पाप - ताप   सब ,    निर्मल     बुद्धि - चित     बकसावैं  ।।
        असरन - सरन     काटि     भवबन्धन ,   भव   जिन    भवन   भव्य   बुलवावैं ।
        बड़भागी      नर - नारी   सोई   जो  ,  सांब - सदाशिव   कौं   नित  ध्यावैं  ।।

         ओढरदानी ,    उदार     अपार     जु ,   नैक - सी    सेवा  तें    ढुरि    जावैं ।
         दमन     अशांति  ,    समन   संकट ,  बिरद   विचार     जनहिं      अपनावैं ।।
         ऐसे    कृपालु     कृपामय    देव   के ,  क्यों   न   सरन    अबहीं  चलि  जावैं ।
         बड़भागी    नर - नारी     सोई      जो ,   सांब - सदाशिव     कौं   नित   ध्यावैं।।